शंखनाद

यदा यदा हि धर्मस्य ग्लानिर्भवति भारत | अभ्युत्थानमधर्मस्य तदात्मानं सृजाम्यहम् || परित्राणाय साधूनां विनाशाय च दुष्कृताम् | धर्मसंस्थापनार्थाय सम्भवामि युगे युगे ||

60 Posts

609 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 9509 postid : 707826

प्रणय काव्य - मोती मेरे आते कल का

Posted On: 24 Feb, 2014 कविता,Contest में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

तेरे नयनों के सागर में
मोती मेरे आते कल का
.
आज अचानक गहराई में
उतरा तो ये जान सका मैं
विशालता थी, दृश्य अनोखे
तैरा जीभर, नहीं थका मैं
बाहर आया खिले हृदय से
पाया सुंदर तट काजल का
.
मस्त पवन सी पलकें चलतीं
शीतल अंतस हो जाता है
भावों का ये ज्वार देख के
सुध-बुध सारा खो जाता है
मौन तरंगें बता रही हैं
आकर हाल हमें पल-पल का
.
संस्कारों की लहर निरंतर
साज सुहाने बजा रही है
शील, भरोसे की स्थिरता भी
बार-बार मन लुभा रही है
छिपा हुआ था प्रणय निवेदन
मीन-लाज के आते छलका

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (6 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

1 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

deepakbijnory के द्वारा
March 5, 2014

topic of the week



latest from jagran