शंखनाद

यदा यदा हि धर्मस्य ग्लानिर्भवति भारत | अभ्युत्थानमधर्मस्य तदात्मानं सृजाम्यहम् || परित्राणाय साधूनां विनाशाय च दुष्कृताम् | धर्मसंस्थापनार्थाय सम्भवामि युगे युगे ||

60 Posts

609 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 9509 postid : 701956

गीत - अकुलाहट की फांस चुभी है

Posted On: 11 Feb, 2014 Others में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

अकुलाहट की फांस चुभी है
मन में टीस उठाती है
.
ऊँचाई को तरस रहा दिल
पंछी रोज बुलाते हैं
पंखहीनता के पिंजरे में
अरमां गुम हो जाते हैं
लाचारी डायन सी बैठी
मंद-मंद मुस्काती है
.
घायल भावों की गठरी का
बोझ बढ़ा ही जाता है
उठा-उठा के शब्द थके हैं
छलक पसीना आता है
लंबा रस्ता अजगर दिखता
मंजिल लगे चिढ़ाती है
.
पास लगा है जीवन-मेला
इच्छाएं बलखाती हैं
सवारियाँ जातीं जो उसतक
भरी-भरी सब आतीं हैं
पीड़ा कुछ दिल में रह जाती
कुछ आँखों तक आती है

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (2 votes, average: 4.50 out of 5)
Loading ... Loading ...

1 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

kavita1980 के द्वारा
February 16, 2014

सुंदर  अभिव्यक्ति -कुछ और स्पष्ट होती तो अच्छा होता


topic of the week



latest from jagran